कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी

एक चिकित्सा संगठन के रूप में हमारे कार्य के अतिरिक्त, हम सामाजिक हितों को सक्रिय समर्थन देने में प्रतिबद्ध हैं। डॉ. बत्रा™ के पॉजिटिव हेल्थ फाउंडेशन की स्थापना 2001 में अल्प सुविधा प्राप्त लोगों की सहायता के लिए की गयी थी।

अपनी स्थापना के समय से इस फाउंडेशन ने बेसहारा बच्चों, अनाथों, बुजुर्गों और शारीरिक तथा मानसिक रूप से अक्षम लोगों के जीवन में काफ़ी फ़र्क डालने का काम किया है। अब हमने करुणा के इस समुदाय में जरूरतमंद जानवरों को भी शामिल किया है। हमारा हर क्लीनिक किसी अनाथालय अथवा वृद्धाश्रम को गोद लेता है, और वहाँ रहने वालों को जीवन भर मुफ़्त इलाज की सुविधा प्रदान करता है।

डॉ. मुकेश बत्रा से शुरू होकर डॉ. बत्रा™ का हर सदस्य इस फाउंडेशन में वार्षिक योगदान करता है। इसके अतिरिक्त, डॉ. मुकेश बत्रा अपनी वार्षिक फोटोग्राफी प्रदर्शनी तथा गीत-संगीत कार्यक्रमों से अर्जित आय का योगदान फाउंडेशन द्वारा समर्थित धर्मार्थ कार्यों में करते हैं। फाउंडेशन द्वारा जुटाया गया समस्त धन पूरी तरह से धर्मार्थ कार्यों में जाता है, इसका कोई भी हिस्सा प्रशासनिक खर्चों में इस्तेमाल नहीं होता है। इससे यह सुनिश्चित होता है कि एक-एक पैसा लोगों की चिकित्सा और उनका जीवन बदलने के हमारे इरादे में काम आता है।

डॉ. बत्रा™ फाउंडेशन में हम जरूरतमंदों में होम्योपैथी का प्रसार दो तरीकों से करते हैं:

मुफ़्त क्लिनिक

यह हमारा लक्ष्य है कि कोई भी मरीज़ पैसे की कमी के कारण इलाज से वंचित नहीं होना चाहिए। इस सपने को हकीकत में बदलने के लिए, दुनिया भर के हमारे सभी क्लिनिक हर महीने कुछ घंटों तक मुफ़्त इलाज के लिए खुले रहते हैं। मुफ़्त क्लिनिक में आने वाले किसी भी मरीज को उचित परामर्श और दवाइयां दी जाती हैं। इस प्रयास के माध्यम से हमने अब तक 50,000 मरीज़ों का मुफ़्त इलाज किया है।

गैर-सरकारी संगठनों (एनजीओ) की साझेदारी में होम्योपैथी परामर्श और दवाइयां

वंचितों तक पहुंचने के लिए डॉ. बत्रा® फाउंडेशन ने कुछ एन.जी.ओ. परियोजनाओं को अपनाया है और उन्हें जीवन भर मुफ़्त परामर्श एवं दवाइयां उपलब्ध कराने का काम किया है। हमारे चिकित्सक स्वेच्छा से इन गैर-सरकारी संगठनों (एन.जी.ओ.) में जाते हैं और मुफ़्त में मरीज़ों का इलाज करते हैं। जिन एन.जी.ओ. का हम समर्थन करते हैं उनके नाम नीचे दिये गए हैं:

  • शेफ़र्ड विडोज होम, मुंबई
  • हैपी होम एंड स्कूल फॉर द ब्लाइंड, मुंबई
  • दी जालाराम सेवा ट्रस्ट (वृद्धाश्रम), वड़ोदरा
  • संध्या ओल्ड ऐज होम, पुणे
  • मर्सी ओल्ड ऐज होम, चेन्नई
  • अनुराग ओल्ड ऐज होम, हैदराबाद
  • लिटिल सिस्टर्स ऑफ द पुअर, बैंगलुरू
  • एक प्रयास, कोलकाता
  • चेतना इंस्टिट्यूट फॉर द मेन्टली हैंडीकैप्ड, लखनऊ
  • फाउंडेशन ने एनिमल एक्टिविस्ट, मेनका गांधी, ट्रस्टी, पीपल फॉर एनिमल्स के साथ हाथ मिलाया है और संजय गांधी पशु देखभाल केंद्र, नई दिल्ली में जानवरों को मुफ़्त इलाज उपलब्ध कराता है।