चिकित्सकीय नवाचार और तकनीक

डॉ. बत्रा™ के यहाँ हमने हमेशा अपने मरीज़ों को ध्यान में रखकर सभी चिकित्सा नवाचारों का उपयोग किया है। हमारा ध्यान निरंतर नवाचार पर रहता है ताकि अत्यधिक बेहतर चिकित्सा परिणाम प्राप्त किया जा सके। हमारे मरीजों के लिए हमारे कुछ नवाचार निम्नलिखित हैं:

  1. ई-मेडिकल रिकॉर्ड: ई-मेडिकल रिकॉर्ड का प्रयोग सबसे पहले डॉ. बत्रा™ के यहाँ 1982 में हुआ था और तब से लगातार यह नवाचारों के दौर से गुज़रा है। ई-मेडिकल रिकॉर्ड के कुछ फ़ायदे निम्नलिखित हैं :
    • मरीज़ों को चिकित्सकों से मिलते वक्त अपनी रिपोर्ट लाने की ज़रूरत नहीं होती है।
    • सारे मेडिकल रिकार्ड मरीज़ के जीवनकाल तक बचा कर रखे जाते हैं।
    • हमारी अत्याधुनिक आई.टी. प्रणाली चिकित्सकीय निर्णय लेने की प्रक्रिया में तेजी लाती है और इसमें सुधार करती है।
    • डेटा की केंद्रीकृत रिकॉर्डिंग हमारे मरीज़ों को दुनिया भर में हमारे किसी भी क्लिनिक में चिकित्सकों से परामर्श करने में सक्षम बनाता है।
    • हमारे आई.टी. सिस्टम में 10 लाख से भी ज़्यादा मामले होने के कारण परस्पर संदर्भ लेना अधिक तेजी से संभव होता है जिसकी वजह से हमारे पिछले अनुभव के माध्यम से मरीजों को बेहतर इलाज मिलता है।
    • विभिन्न भौगोलिक क्षेत्रों में मौजूद हमारे सभी चिकित्सकों के बीच इलाज का मानकीकरण सुनिश्चित होता है।
  2. इलाज के परिणामों का वैज्ञानिक तरीके से मूल्यांकन: डॉ. बत्रा® के यहाँ हम वैज्ञानिक सबूतों पर विश्वास रखते हैं। इसलिए हमने विभिन्न वैज्ञानिक उपचार के माप उपकरणों को हमारे क्लिनिकों में विकसित एवं शामिल किया है। इनमें से कुछ नीचे दिये गए हैं:
    3डी कैमरा के माध्यम से विटिलिगो की त्वचा संबंधी जांच
    • वीडियो माइक्रोस्कोप: यह एक सरल एवं दर्दरहित परीक्षण है जो आपके बालों और सिर की त्वचा को 200 गुणा बड़ा करके दिखाता है। इससे हमारे चिकित्सकों को बाल झड़ने के प्रकार और सिर की त्वचा की स्थिति का पता चलता है। इसका इस्तेमाल आपको बालों के झड़ने का अनुभव होने से पहले इसका पूर्वानुमान करने के लिए भी किया जा सकता है।
    • 3डी इमेजिंग टेक्नोलॉजी: हम त्वचा के स्वास्थ्य का विश्लेषण करने के लिए भारत की पहली 3डी इमेजिंग डिवाइस लेकर आए हैं। एडवांस्ड ऑप्टिकल टेक्नोलॉजी से युक्त यह उपकरण एक महत्वपूर्ण वैज्ञानिक खोज है जिससे त्वचा को 2 एवं 3 आयामों से देखना संभव होता है जिसकी मदद से त्वचा के विकारों का अधिक प्रभावशाली ढंग से पता लगाया और इलाज किया जाता है। यह उपकरण आपकी त्वचा के निचले स्तरों के इलाज पर आपकी प्रतिक्रिया को आपके द्वारा खुली आँखों से देखे जाने से पहले ही दर्शाता है जिससे आपके इलाज में तेजी आती है और आपके पैसे बचाने में भी मदद मिलती है।


      3डी इमेजिंग डिवाइस
  3. डॉ. बत्रा™ का मोस्ट (एम.ओ.एस.टी.): यह एक प्रोप्राइटरी साधन है जिसका इस्तेमाल त्वचा की विभिन्न समस्याओं के विस्तार और उपचार की प्रतिक्रिया का मूल्यांकन करने में किया जाता है। इस उपकरण को केवल डॉ. बत्रा™ के लिए विकसित किया गया है और हमारे सारे क्लीनिकों में उपलब्ध है। यह हमारे चिकित्सक और मरीज़ को उपचार की प्रगति को समझने में मदद करता है। इसलिए यह त्वचा के मरीज़ों के लिए एक बहुत अच्छा वैज्ञानिक उपकरण है।
  4. डिजिटल पीएफआर: यह उपकरण श्वास की समस्याओं वाले मरीज़ों के इलाज के परिणामों का वैज्ञानिक तरीके से मूल्यांकन करने में इस्तेमाल होता है।

     

  5. टेली होम्योपैथी: डॉ. बत्रा™ टेली-होम्योपैथी को आगे बढ़ाने वाले पहले चिकित्सक हैं जिससे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से विभिन्न भौगोलिक क्षेत्रों में परामर्श या दूसरी राय लेने के लिए चिकित्सक और मरीज़ के बीच आपस में बातचीत करना संभव होता है। टेली-होम्योपैथी की मदद से हमें हमारे साथ काम करने वाले 350 पूर्णकालिक चिकित्सकों की विशेषज्ञता और अनुभव का पूरी तरह से लाभ उठाने में मदद मिलती है। इस सुविधा का इस्तेमाल करके मरीज़ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से चिकित्सकों से परामर्श कर सकते हैं या हमारे विशेषज्ञ मेडिकल बोर्ड से दूसरी राय भी ले सकते हैं।
  6. मरीजों का इलाज करने में इंटरनेट के उपयोग को आगे बढ़ाना: डॉ. बत्रा™ ने होम्योपैथी में पहली बार ब्रिक एंड क्लिक विधि का चलन शुरू किया है। वर्ष 2005 में कंपनी ने 86 देशों के 4.5 लाख मरीज़ों का इंटरनेट के माध्यम से इलाज किया जिसका ज़िक्र लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में सर्वाधिक संख्या में मरीज़ों का ऑनलाइन इलाज करने के संदर्भ में हुआ था। हमारे साइबर क्लीनिक की मदद से हम दुनिया भर के मरीजों के लिए सुलभ हैं और उनका प्रभावी ढ़ंग से इलाज कर पाते हैं।
  7. ब्लिस्टर पैकेजिंग: डॉ. बत्रा™ भारत का पहला होम्योपैथिक संस्थान है जिसने पारंपरिक सफेद गोलियों की ब्लिस्टर पैकिंग का प्रचलन शुरू किया जिससे इन दवाइयों का सेवन किये जाने तक इनके औषधीय गुणों को शुद्ध रूप में बनाए रखना संभव हुआ। इस नवाचार ने मरीजों द्वारा सही मात्रा में सीलबंद और मिलावट रहित खुराक का सेवन किया जाना सुनिश्चित करके उपचार के बेहतर परिणाम पाने में मदद की है।
  8. आईएसओ 9001:2008: भारत में मौजूद डॉ. बत्रा™ की पोजिटिव हेल्थ क्लिनिक की शाखाओं को अमेरिकी गुणवत्ता निर्धारकों (एक्यूए) का आईएसओ 9001:2008 प्रमाणन प्राप्त हुआ है, जो वर्तमान में विश्व में अपनी तरह का सर्वोच्च गुणवत्ता मानक है। डॉ. बत्रा™ विश्व का पहला होम्योपैथिक स्वास्थ्य सेवा कॉरपोरेट है जिसे यह सम्मान मिला है। यह ख़ास तौर पर हमारी मौजूदगी वाले विभिन्न भौगोलिक क्षेत्रों में इलाज का मानकीकरण और हमारे मरीजों की देखभाल सुनिश्चित करने के लिए किया गया है।
close
Forgot Password
email id not registered with us
close
sms SMS - Clinic details to
invalid no
close
Thank you for registering for our newsletter.

Lorem Ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry. Lorem Ipsum has been the industry's.

close