ब्रोंकाइटिस – एक नज़र

एक सरल अनैच्छिक क्रिया, जैसे खांसी जो वायु मार्गों को साफ़ करने के लिए होती है, अगर इसे अनुपचारित छोड़ दिया गया तो ब्रोंकाइटिस जैसी कष्टदायक बीमारी में परिवर्तित हो सकती है।  

ब्रोंकाइटिस एक श्वसन संबंधी विकार है जिसमें फेफड़ों तक हवा पहुंचाने वाली नलिकाओं में सूजन और जलन होने लगती है। इसके कारण इन नलिकाओं की भीतरी परत फूल जाती है और बलगम उत्पन्न करती है जिससे खांसी होती है।

ब्रोंकाइटिस अल्पकालिक या दीर्घकालिक प्रकृति की हो सकती है जो बीमारी की अवधि पर निर्भर करता है। अल्पकालिक ब्रोंकाइटिस अधिकांशतः सर्दी या अन्य श्वसन संबंधी संक्रमणों से विकसित होता है जबकि दीर्घकालिक ब्रोंकाइटिस ब्रोंकियल ट्यूब्स में अधिक निरंतर परेशानी का परिणाम होता है जो अक्सर धूम्रपान के कारण होता है। होम्योपैथी दोनों प्रकार की ब्रोंकाइटिस से पीड़ित मरीजों की काफी सहायता कर सकती है और सहज एवं सुरक्षित इलाज प्रदान करती है।

डॉ. बत्रा’ज™ में, हमने पिछले 35 वर्षों में ब्रोंकाइटिस के हजारों मामलों का सफलतापूर्वक इलाज किया है और हमारे सभी मरीजों को अच्छी राहत तथा बेहतर जीवन स्तर प्रदान कर सकने में मदद कर सकते हैं। डॉ. बत्रा’ज™ में संपूर्ण इलाज के साथ होम्योपैथी के अद्भुत चमत्कार का अनुभव करें।

ब्रोंकाइटिस क्या है?

खांसी, बलगम और साँसों में घरघराहट... इनका आसानी से इलाज करें!

हवा को फेफड़ों में पहुंचाने वाली नलिकाओं में सूजन/जलन को ब्रोंकाइटिस कहा जाता है। जब इन नलिकाओं की भीतरी परत (ब्रोंकाई) फूल जाती है, ये मोटी हो जाती हैं और बलगम उत्पन्न करती हैं। इससे नलिकाएं संकीर्ण हो जाती हैं जो मोटा बलगम बनने के साथ खाँसी होने का कारण बनती है।

ब्रोंकाइटिस अल्पकालिक या दीर्घकालिक प्रकृति का हो सकता है। अल्पकालिक ब्रोंकाइटिस आम तौर पर तुरंत शुरू होता है और छः हफ़्तों की अवधि के भीतर ठीक हो जाता है। ज्यादातर मामले किसी समस्या के बिना ठीक हो जाते हैं, खास तौर पर अगर मरीज अन्यथा इसके आक्रमण से पहले स्वस्थ रहा है।

दूसरी ओर, दीर्घकालिक ब्रोंकाइटिस कम से कम लगातार दो वर्षों तक वर्ष के तीन महीनों के दौरान अधिकाँश दिनों में बलगम के साथ जिद्दी खांसी के रूप में बना रहता है। दीर्घकालिक ब्रोंकाइटिस अधिक गंभीर प्रकृति का होता है और इसके लिए लंबी अवधि के इलाज की जरूरत होती है। दीर्घकालिक ब्रोंकाइटिस में, ब्रोंकाई में होने वाली क्षति अधिक गहराई तक होती है और धूम्रपान के दौरान बार-बार होती है।

अल्पकालिक ब्रोंकाइटिस बच्चों और वयस्कों दोनों में बहुत आम होता है, हालांकि इसकी व्यापकता की दर पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों में कहीं अधिक होती है। दूसरी ओर, दीर्घकालिक ब्रोंकाइटिस 40 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों में अधिक आम होता है।

विशेषज्ञ के साथ एक नियुक्ति बुक करें

I understand and accept the terms and conditions
Speak To Us
TALK TO AN EXPERT
x

1st time in india

bio-engineered hair

Visible results guarantee

in 6 sessions